रिंकू सोनकर - बापू की 151वीं जयंती पर सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं

जिसकी सोच ने कर दिया कमाल,
देश का बदल गया सुर ताल,
सबने बोली सत्य अहिंसा की बोली,
हर गली में जली विदेशी वस्तुओं की होली...!!!

आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का 151वां जन्मदिवस है. बापू बस एक नाम नहीं हैं, अपितु वह स्वयं में एक परिपूर्ण विचारधारा हैं, जो किसी भी व्यक्ति के जीवन को बदलने की क्षमता रखते हैं. उनके विचार आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं, जितने आज से 100 वर्ष पूर्व हुआ करते थे, जब उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ स्वाधीनता की लडाई छेड़ी हुई थी. मेरे विचारों में हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी का सम्पूर्ण जीवन ही एक मिसाल रहा है, जिससे हमने बहुत सा ज्ञान अर्जित किया है, आज भी उनसे कुछ न कुछ नया सीख रहे हैं और भावी पीढ़ी के लिए भी उनके आदर्श एक उदाहरण के तौर पर उपस्थित रहेंगे.

बापू अथवा महात्मा गांधी के नाम से जन जन में प्रसिद्द मोहनदास करमचंद गांधी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सर्वप्रमुख लोकनायक रहे हैं, जिन्होंने सत्याग्रह और अहिंसा के सिद्धान्तों पर चलते हुए भारत की आजादी की आज़ादी की दास्तान लिख डाली. उनके समानता, स्वतंत्रता, अहिंसा आदि के सिद्धांतों ने पूरी दुनिया में आम जन को अपने नागरिक अधिकारों एवं स्वतन्त्रता आन्दोलन के लिये प्रेरित किया. शायद उनके इसी प्रेरणादायक जीवन को देखते हुए आज़ादी के लोकनेता सुभाष चन्द्र बोस ने वर्ष 1944 में रंगून रेडियो से महात्मा गांधी के नाम प्रसारण करते हुए उन्हें ‘राष्ट्रपिता’ कहकर सम्मान दिया.

कितना सरल था बापू का जीवन, सदाचार और उत्तम विचारों से परिपूर्ण. साबरमती के इस संत ने सूत और खादी से बने वस्त्र पहन कर हम भारतीयों को "सादा जीवन..उच्च विचार" की संकल्पना से सरोबार किया. सदैव शाकाहारी भोजन खाने वाले इस महापुरुष ने आत्मशुद्धि के लिये कई बार लम्बे उपवास भी किये और किसी भी परिस्थिति में अहिंसा और सत्य के आदर्शों को नहीं छोड़ा. पेशे से बापू अधिवक्ता थे, जिसके चलते उन्हें जीवन भर नागरिकों के अधिकारों और सम्मान की चिंता रही. ईमानदारी से अपना जीवन यापन करने वाले बापू वास्तव में हमारे लिए मिसाल हैं, एक कल्याणकारी मार्ग के समान हैं..जिस पर हमें चलना होगा और अपने साथ साथ समाज का भी हित देखना होगा.

आप सभी बापू के समान ही अपने जीवन में प्रगतिकारी मार्ग की ओर उन्मुख हों, समाजहित की भावना आपके मन में रहे और देश को विकसित करना आपके जीवन का प्रमुख ध्येय बनें. इन्हीं शब्दों के साथ मेरी ओर से आप सभी देशवासियों को राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की 151वीं जयंती की कोटि कोटि मंगलकामनाएं.

साभार
रिंकू सोनकर 
क्षेत्र की आम समस्याएँ एवं सुझाव दर्ज़ करवाएं.

क्षेत्र की आम समस्याएँ एवं सुझाव दर्ज़ करवाएं.

नमस्कार, मैं रिंकू सोनकर आपके क्षेत्र का प्रतिनिधि बोल रहा हूँ. मैं आप सब की आम समस्याओं के समाधान के लिए आपके साथ मिल कर कार्य करने को तत्पर हूँ, चाहे वो हो प्रदेश में सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य, समानता, प्रशासन इत्यादि से जुड़े मुद्दे या कोई सुझाव जिसे आप साझा करना चाहें. आप मेरे जन सुनवाई पोर्टल पर जा कर ऑनलाइन भेज सकते हैं. अपनी समस्या या सुझाव दर्ज़ करने के लिए क्लिक करें - जन सुनवाई.

क्या यह आपके लिए प्रासंगिक है? मेसेज छोड़ें.